Top 10 Health Benefits of Ashwagandha

Top 10 Health Benefits of Ashwagandha

अश्वगंधा (Ashwagandha) एक प्राचीन औषधीय जड़ी बूटी है। यह आयुर्वेद में सबसे महत्वपूर्ण जड़ी बूटियों में से एक है। आयुर्वेदिक, यूनानी और भारतीय दवाओं में, अश्वगंध को भारतीय जीन्सेंग (Indian Ginseng) के नाम से भी जाना जाता है। अश्वगंधा (ashwagandha) का प्रयोग विभिन्न अफ्रीकी दवाओं में अलग-अलग प्रकार की बीमारियों को ठीक करने के लिए भी किया जाता है।

अश्वगंध का उपयोग तनाव (stress) से छुटकारा पाने, ऊर्जा के स्तर में वृद्धि और एकाग्रता में सुधार के लिए लगभग 3,000 से अधिक वर्षों से किया जाता रहा है। अश्वगंधा आजकल मार्केट में कई रूपों में उपलब्ध है, जैसे — कैप्सूल, टेबलेट, पाउडर, आदि। इसका उपयोग सभी प्रकार के दर्द और तनाव से लड़ने में किया जाता है।

लेकिन मेमोरियल स्लोन केटरिंग कैंसर सेंटर (Memorial Sloan Kettering Cancer Center) के अनुसार, यह गर्भवती महिलाओं के लिए उपयुक्त नहीं है। इसका कारण यह है की ये गर्भपात (abortion) की वजह भी बन सकता है।

स्तनपान (breast—feeding) कराने वाली महिलाओं को भी इसका सेवन नहीं करना चाहिए। यदि आप गर्भवती (pregnant) हैं या नर्सिंग कर रहे हैं, तो कृपया अश्वगंधा लेने से पहले सावधान हो जाएँ।

अश्वगंधा के लाभ (Benefits of Ashwagandha)


1. डिप्रेशन और तनाव को शांत करने में :

2012 में हुए एक अध्ययन में पाया गया कि जो लोग अश्वगंधा की खुराक लेते थे, उनमें कोर्टिसोल (cortisol) के स्तर में कमी दर्ज़ की गयी। कोर्टिसोल को “तनाव हार्मोन (stress Harmon) ” के रूप में जाना जाता है, जो तनाव के लिए उत्तरदायी हार्मोन है।

एक और छोटे अध्ययन में पाया गया कि अश्वगंधा के सेवन से 88% लोगों में चिंता (anxiety) के कम लक्षण देखे गए। यह अवसाद (depression) को कम करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

2. एंटी-कैंसर के रूप में :

अश्वगंधा कैंसर (cancer) से लड़ने में भी काफी मदगार है। 2010 के एक अध्ययन के अनुसार, अश्वगंधा कुछ कैंसर कोशिकाओं को मारने में सक्षम है। यह कई तरीकों से नए कैंसर सैल्स के विकास में भी बाधा डालता है।

यह सफेद रक्त कोशिकाओं की संख्या बढ़ाकर केमोथेरेपी से गुजर रहे मरीजों की प्रतिरक्षा प्रणाली (immunity system) को मजबूत करता है।

पशुओं पर किये गए एक अध्ययन से पता चलता है कि यह फेफड़े (lungs), स्तन (breast) , मस्तिष्क (brain) , कोलन (colon) और डिम्बग्रंथि (ovarian) के कैंसर सहित कई प्रकार के कैंसर का इलाज करने में मदद कर सकता है। (पढ़ें :- कैंसर: इसके तथ्य, कारण और लक्षण)

3. सूजन को कम करने में :

पशुओं पर हुए अध्ययनों से पता चलता है कि अश्वगंधा सूजन (swelling) को कम करने में भी मदद करता है।

4. प्रजनन क्षमता बढ़ाने में :

अश्वगंधा टेस्टोस्टेरोन स्तर (testosterone level) और प्रजनन क्षमता (sex power) बढ़ाने में बहुत लाभदायक सिद्ध हो सकता है। यह शुक्राणुओं की संख्या (sperm count) और गतिशीलता (mobility) बढ़ाने में आपकी मदद करता है।

रिसर्च में देखा गया कि इसके सेवन से टेस्टोस्टेरोन के स्तर में उल्लेखनीय वृद्धि हुई और खून में एंटीऑक्सीडेंट का स्तर भी बढ़ा पाया गया। (पढ़ें :- शिलाजीत: स्वास्थ्य लाभ, साइड इफेक्ट्स और उपयोग)

अश्वगंधा एंटीऑक्सीडेंट के स्तर (anti-oxidants level) और शुक्राणुओं की गुणवत्ता (sperm quality) को ठीक करने में अहम् भूमिका निभा सकता है। इसका उपयोग पुरुषों और महिलाओं में प्रजनन समस्याओं को कम करने और यौन इच्छाओं को बढ़ाने के लिए  किया जाता है।

5. बालों को सफेद होने से रोकने में :

कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि अश्वगंधा पाउडर की दैनिक खुराक लेने से बालों के सफेद (premature graying) होने में कुछ कमी दर्ज की गयी। इसलिए अगर आपके बाल असमय सफेद हो रहे हैं, तो आप अश्वगंधा का सेवन शुरू कर सकते हैं।

6. ब्लड शुगर को कम करने में :

कई अध्ययनों में पाया गया कि अश्वगंधा ब्लड शुगर (blood sugar) के स्तर को कम करने में सहायक है। इसके अलावा, कई मानव अध्ययनों ने स्वस्थ और मधुमेह दोनों तरह के लोगों में रक्त शर्करा (blood sugar) के स्तर को कम करने की क्षमता की पुष्टि की है। अश्वगंधा टाइप 2 मधुमेह (type-2 diabetes) वाले रोगियों के लिए भी काफी फायदेमंद है।

7. जवान बनाये रखने में :

2016 के एक अध्ययन में पाया गया कि अश्वगंध में पॉलीफेनॉल (polyphenols) जैसे शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट (powerful antioxidants) पाए जाते हैं।

यह शरीर में मुक्त कणों (free radicals) को कम कर सकता है और वृद्धावस्था के लक्षणों को धीमा कर सकता है। इस प्रकार यह आपको सदा जवान बनाये रखता है।

8. घुटनों के दर्द और गठिया में :

अश्वगंधा (ashwagandha) संयुक्त दर्द और गठिया से जुड़ी सूजन को शांत करने में आपकी काफी मदद कर सकता है।

9. वजन और ताकत बढ़ाने में :

एक अध्ययन के मुताबिक, अश्वगंध की खुराक आपके शरीर की संरचना (body structure) में सुधार कर सकती है और आपकी ताकत भी बढ़ा सकती है।

यदि आप वजन बढ़ाना (weight gain) चाहते हैं तो अश्वगंधा का सेवन काफी फायदेमंद है और यह आपकी मसल्स को शक्ति प्रदान करने में भी मदद करता है। 

10. मेमोरी और मस्तिष्क के कार्य संचालन में :

अश्वगंधा (ashwagandha) आपकी याददाश्त (memory) और आपके मस्तिष्क के लिए बहुत अच्छा है। यह चोट या किसी बीमारी के कारण आई मेमोरी या मस्तिष्क की कई समस्याओं को कम करने में सक्षम है। 

अश्वगंधा का 300 से 500 मिलीग्राम सेवन अच्छा होता है। आप इसे कैप्सूल या पाउडर के रूप में  प्रतिदिन एक या दो बार ले सकते हैं। 

गर्भवती महिलायें (pregnant women), ब्लड प्रेशर या हाइपरटेंशन (hypertension) और लीवर (liver) के मरीजों को इसका सेवन बिना डॉक्टर की सलाह के नहीं करना चाहिए।

4 Shares
Share3
Tweet
Pin1